blogid : 680 postid : 720743

धरना डांस: आ गया ‘केजरू’ मूड बना के

Posted On: 23 Mar, 2014 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री को समर्पित इस वीडियो को एक बार देखना तो बनता है


कुछ दिन पहले आम आदमी पार्टी की एक ऐसी लहर उठी थी जिसने देश की अन्य नामी-गिरामी और बड़ी-बड़ी राजनीतिक पार्टियों को हिलाकर रख दिया था. आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने जनता का विश्वास इस कदर और इतना फटाफट जीता कि पहली ही कोशिश में अरविंद केजरीवाल को दिल्ली के मुख्यमंत्री पद पर बैठा दिया. हालांकि धरना एक्सपर्ट अरविंद केजरीवाल अपना हर कदम जनता से पूछ-पूछकर उठाते रहे हैं पर अफसोस जनता के इतने आज्ञाकारी मुख्यमंत्री होने के बावजूद वो अपना पद संभालकर नहीं रख पाए और 2 महीने के अंदर-अंदर उन्हें इस्तीफा सौंपना पड़ा. अनिल कपूर की नायक फिल्म तो आपने देखी होगी, बस उसी तर्ज पर बिना समय गंवाए अरविंद केजरीवाल ने काम किया और इसी तेजी की वजह से उन्हें अपना पद छोड़ना पड़ा. वैसे जो वीडियो हम आपको दिखाने जा रहे हैं वह काफी पुरानी है और हो सकता है आपने देखी भी हो लेकिन दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री को समर्पित इस वीडियो को एक बार फिर देखना तो बनता है और यकीन मानिए आप इसे दोबारा देखने पर बोर भी नहीं होंगे:



YouTube Preview Image



Read More:

जब भरी सभा में हो गई राष्ट्रपति की पैंट गीली !!

‘ट्रेजडीवाल’ स्पेशल: शुरू करें ड्रामेबाजी लेकर ‘नमो’ का नाम


Web Title : arvind kejriwal funny videos



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Uma Shankar Parashar के द्वारा
August 17, 2016

ैपाीा गे ूपा नग्ादय़

pankajranjan के द्वारा
March 23, 2014

शुरुवात में सभी अच्छी चीज़ें असम्भव नज़र आती हैं क्यूकि हमारा दिमाग नयी चीज़ों जल्द लेना नहीं चाहता है .रही सही कसार हमारे अगल बगल वाले सोच को बदलने के लिए सोचने का मौका ही नहीं देता , क्यूकि बदलाव सबको भयावह लगती है . नयी चीज़ों में अनिश्चितता सी लगती है और बहुत सारे लोग लगातार कहते रहेंगे ऐसा नहीं हो सकता कह कर नयी सोच अपनाने देने से डराते रहेंगे .इतिहास भी गवाह है जैसे सुकरात, गलेलिओ. आदि सोच बदलने कि ज़रूरत है ताकि जो नयी लकीर खिची गयी है वोह कम से कम भारतीयों के लिए वरदान साबित होगी , सोच को नई disha देकर मंज़िल तक पहुचाएं


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran